KAVITA KUNJ

Kavita Kunj

Deshbhakti Shayari / देशभक्ति शायरी 2022

Deshbhakti Shayari / देशभक्ति शायरी

Deshbhakti Shayari / देशभक्ति शायरी
deshbhakti shayari, deshbhakti shayariyan, deshbhakti shayari status, deshbhakti shayari 2021, desh bhakti shayari song, deshbhakti shayari in hindi, देशभक्ति शायरी हिन्दी मे, desh bhakti ki shayari, deshbhakti all shayari, manoj muntashir deshbhakti shayari
Deshbhakti Shayari

यहां पर आपको देशभक्ति से ओत प्रोत शायरी और कोटेशन मिलेंगे जिसे आप खुद पढ़े और अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें –

www.kavitakunj.in

नहीं चाहते हम धन वैभव नहीं चाहते हम अधिकार
बस स्वतंत्र रहने दो हमको और स्वतंत्र कहे संसार

शम्माँ ए वतन की लौ पर जब कुर्बान पतंगा हो
होठों पर गंगा हो हाथों में तिरंगा हो
होठों पर गंगा हो हाथों में तिरंगा हो

सुनो गौर से दुनिया वालों बुरी नजर न हमपे डालो
सबसे आगे होंगे हिंदुस्तानी हिंदुस्तानी

www.kavitakunj.in

Deshbhakti Shayari

जो भरा नहीं भावों से बहती जिसमें रसधार नहीं
वह हृदय नहीं पत्थर है जिसमें स्वदेश का प्यार नहीं

Deshbhakti Shayari

भारत माता तुम्हें पुकारे आना ही होगा,
कर्ज अपने देश का चुकाना ही होगा ,
देकर के कुर्बानी अपनी जान की ,
तुम्हें मरना भी होगा मारना भी होगा

जो देश के लिए शहीद हुए उन को मेरा सलाम है
अपने खून से जिन्होंने जमीन को सींचा उन बहादुरों को सलाम है

अपनी आजादी को हम हरगिज मिटा सकते नहीं
सर कटा सकते हैं लेकिन सर झुका सकते नहीं

है नमन उनको की जो यशकाय को अमरत्व देकर
इस जगत में शौर्य की जीवित कहानी हो गए
है नमन उनको की जिनके सामने बौना हिमालय
जो धरा पर गिर पड़े पर आसमानी हो गए

Deshbhakti Shayari / देशभक्ति शायरी

जला अस्थियाँ बारी बारी
चिटकाई जिनमें चिंगारी
जो चढ़ गए पुण्य वेदी पर
लिए बिना गर्दन का मोल
कलम आज उनकी जय बोल

मेरा मुल्क मेरा देश मेरा ये वतन
शांति का उन्नति का प्यार का चमन

www.kavitakunj.in

आज़ादी की कभी शाम नहीं होने देंगे
शहीदों की कुर्बानी बदनाम नहीं होने देंगे
बची हो जो इक बूंद भी गर्म लहू की
तब तक भारत के आंचल को नीलाम नहीं होने देंगे

शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर बरस मेले
वतन पर मरने वालों का बाकी यही निशां होगा

मैं अपने देश का हरदम सम्मान करता हूं
यहां की मिट्टी का ही गुणगान करता हूं
मुझे डर नहीं है अपनी मौत से
तिरंगा बने कफन मेरा यही अरमान रखता हूं

तिरंगा है आन मेरी
तिरंगा ही है शान मेरी
तिरंगा रहे सदा ऊंचा हमारा
तिरंगे से है धरती महान मेरी

चाहता हूँ कोई नेक काम हो जाये
मेरी हर सांस देश के नाम हो जाये

बस ये बात हवाओं को बताए रखना
रौशनी होगी चिरागों को जलाए रखना
लहू देकर की है जिसकी हिफाजत शहीदों ने
ऐसे तिरंगे को हमेशा दिल में बसाए रखना

अनेकता में एकता ही इस देश की शान है
इसलिए मेरा भारत महान है

सीने में जुनून और आंखों में देशभक्ति की चमक रखता हूं
दुश्मन की सांसे थम जाए आवाज में इतनी धमक रखता हूं

सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है
देखना है जोर कितना बाजू ए कातिल में है
वक़्त आने दे बता देंगे तुझे ए आसमां
हम अभी से क्या बताएं क्या हमारे दिल में है

जो अब तक ना खौला वह खून नहीं पानी है
जो देश के काम ना आए वह बेकार जवानी है

TAG####

deshbhakti shayari, deshbhakti shayariyan, deshbhakti shayari status, deshbhakti shayari 2021, desh bhakti shayari song, deshbhakti shayari in hindi, देशभक्ति शायरी हिन्दी मे, desh bhakti ki shayari, deshbhakti all shayari, manoj muntashir deshbhakti shayari

पको हमारा यह प्रयास कैसा लगा कमेंट करके जरूर बतायें

Latest post

1 thought on “Deshbhakti Shayari / देशभक्ति शायरी 2022”

  1. Pingback: Deshbhakti Kavita/देशभक्ति कविता 2022 - Kavita Kunj

Leave a Comment

Your email address will not be published.

KAVITAKUNJ HINDI KAVITA